Rooh – रूह

कुछ लोगों में बात ही कुछ ऐसी है, 

रूह को छु जायेंगे|


जिस्म का क्या है? मिटटी से बने हैं ,

मिटटी में मिल जायेंगे|

Translation by Ridhi Gupta

Some people just have a way,

Your very soul they touch.


The body is nothing but a myth,

Ashes to ashes dust to dust.

आवाज़ें – Aawaazein

चेहरों पर मुस्कुराहट लिए चले जा रहे हैं
नजाने कहीं शोर मच रहा था
कहीं गुस्से का तो कहीं सिसकियों का
तो कहीं धोके का खेल रच रहा था

खैर मुस्कान तो सिर्फ एक नकाब है
क्यूंकि ये तो वह आवाज़ें हैं जिनका साया मन के हर कोनो में जच रहा था|

PicsArt_05-20-08.18.09

Translation (by Ridhi Gupta)

With smiles plastered on our faces,
We keep walking through life’s phases,
Surrounded by sounds that portrayed,
The anger, the sadness,
And those of hearts being betrayed.
But we’ve always known those smiles as facades.
Because the voices we heard were those,
whose every intonation is like a hidden shadow,
in the corners of our mind they hide, they grow.

Agar Main Zinda Hota

ज़िंदा  रहने  की  कोशिश  या  ज़िन्दगी  जीने  की  साज़िश?
सौभाग्य  है  उनका  जिन्हें  मिली  है  यह  कश्मकश |
सोचा  तो  कभी  नहीं  अपने  ही  देश  में  कोई  अपना  नहीं
डर  में  जीते  हैं  हम, यह  सच  है  कोई  सपना  नहीं |
रोज़  खेलता  था  वह  मेरे  साथ, आज  न  जाने  क्यों  नहीं  आया
माँ  ने  कहा  कहीं  गए  हैं  वो, उनकी  बेरहम  मौत  की  खबर  को  उन्ही के कब्र  में  छुपाया |
अगर  मैं  ज़िंदा  होता  तो  पता  होता  माँ  ने  यह  सच  क्यों  छुपाया |
हम  घर  में  ही  रहते  थे  ज़्यादा तर
माँ  परेशान  रहती  थी  अक्सर |
एक  दिन  कहा  देश  छोड़कर  जाना  है
यहाँ सिर्फ  खोना, कुछ नहीं पाना है |
निकल  पड़े  थे  नयी  शुरुवात  के  लिए
सोचा  न  था  निकले  थे  ज़िन्दगी  के  विश्वासघात  के  लिए |
हमारी एक  कोशिश  थी  ज़िंदा  रहने  की
हिम्मत  तो  जूता  ली  हर  दर्द  सहने  की |
दर्द  सहने  की  ज़रुरत  ही  न  पड़ी
जब  सुई  ही  रुक  गयी  उस  घडी |
अगर  मैं  ज़िंदा  होता  तो  शायद  कहीं  खुश  होता
अगर  मैं  ज़िंदा  होता ,
ज़िंदा  रहने  या  ज़िन्दगी  जीने  के  कश्मकश  में  शायद  मैं  भी  होता , शायद  मैं  भी  होता |
This poetry is a tribute to Aylan Kurdi, his family and every Syrian refugee.

26/11/08 Never forget this day

I had written this when I was 15, when the Mumbai attacks happened. 26nov2008
khoon hua? kiska?
kyun karein hum kuch?
kya tha woh koi apna?
hum hi kyun iske khilaaf awaaz uthayein?
hum hi kyun apni jaan gawayein?
bhaarat maata hai nyari
par hamaari jaan hai zyaada pyaari
police kar rahi hai apna kaam
aur neta kar rahe hain aaraam hi aaraam
aatankiyon ka kaatilaana chehera
uss par hai maasumiyat ka pehera
ek taraf hain hazaaron laashein
toh doosri taraf hai netaaon ki aishein
khoon ki nadiyan behene lage
aur dukh mein baadal rone lage
khoon ki cheetein hum par nahi pade
kyun hum aatankwaad se lade?
par kisi na kisi ko iske khilaaf bolna hoga
jo nahi khula hai uss raaz ko kholna hoga
aawaaz nahi talwar uthao
aur iss atankwaad ko jad se mitao.

जोगन – Jogan

मैं उड़ती हूँ ज़मीन पर
चलती हूँ आसमानो में
सुनती हूँ सन्नाटों को
बोलती हूँ हवाओं से
नाचती हूँ अंगारों पर ,
तैरती हूँ आग में
जिगर है चट्टानों सा
और उभरती हूँ ज्वाला सी
जोगन नहीं किसी और की
वह तो फितरत है कमज़ोर की
न रूप की न व्यक्तित्व की
जोगन हूँ मैं अपने अस्तित्व की |

अनजान बनकर देखोगे तो कमली नज़र आउंगी
अस्तित्व को जान कर परखोगे तो जोगन केहलाउंगी|

Screenshot_2015-11-08-21-25-05 (2)

Image of Nimisha Verma

Main udti hoon zameen par
Chalti hoon aasmaano main
Sunti hoon sannaton ko
Bolti hoon hawaon se
Naachti hoon angaaron par,
Tairti hoon aag mein
Jigar hai chattano sa
Aur ubharti hoon jwala si
Jogan nahi kisi aur ki
Woh toh fitrat hai kamzor ki
na roop ki na vyaktitva ki
Jogan hoon main apne astitva ki|
Anjaan banker dekhoge toh kamli nazar aaungi
Astitva ko jaan kar parkhoge toh jogan kehlaungi |

दर्द को इस नाचीज़ की बहुत याद आती है – Dard ko iss nacheez ki bahut yaad aati hai

वह हर रोज़ मेरे पास एक फरियाद लाती है
“दर्द को इस नाचीज़ की बहुत याद आती है |
प्यार करती हूँ, फिर भी कमी रह जाती है,
समझ ना चाहती हूँ, फिर भी गलत फहमी हो जाती है.
मुस्कुराना चाहती हूँ, पर आसुओं से मेरी ज़िन्दगी आबाद हो जाती है
जीना चाहती हूँ, पर दर्द को इस नाचीज़ की बहुत याद आती है |”
जब उसके लफ्ज़ बिखर गए
मेरे यह होंठ आखिर कार कुछ लफ्ज़ बोल गए
“वह दिल ही क्या जिसे दर्द का एहसास ना हो
वह मुस्कराहट ही क्या जिस में उसके लबों के अलफ़ाज़ ना हो |”

Woh har roz mere paas ek friyaad laati hai
“dard ko is naacheez ki bahut yaad aati hai.
Pyaar karti hoon phir bhi kami reh jaati hai,
Samajh na chahti hoon, phir bhi galat fehmi ho jaati hai.
Muskurana chahti hoon, par aasuon se meri zindagi aabaad ho jaati hai
Jeena chaahti hoon, par dard ko is naacheez ki bahut yaad aati hai.”
Jab uske lafz bikhar Gaye
Mere Yeh hont aakhir kaar kuch lafz bol gaye
“Woh dil hi kya jise dard ka ehsaas na ho
Woh muskurahat hi kya jisme uske labon ke alfaaz na ho”

कट्पुतली

Courtesy : Rishi Raj Singh Rathore www.instagram.com.the.indian.traveller.

Courtesy : Rishi Raj Singh Rathore
http://www.instagram.com/the.indian.traveller

ज़िन्दगी  मेरी  कट्पुतली  है  या  मैं  ज़िन्दगी  की ? आखिर  वजह  क्या  है  इस  चुबते  हुए सन्नाटे  की ? छुपाती  थी  खुदको  हर  इंसान  से , बचाती  थी  खुद  को  हर  तूफ़ान  से | पर  ज़िन्दगी  कि डोरिया  कुछ  इस  तरह  बंधी  थी , कि मैं  जिस  डोरी  से  बंधी  वह  डोरी  तो  टूटनी  ही  थी | ऐसा  झोंका  आया  हवा  का , कोई  मतलब  ना  रहा  किसी  की  दुआ  का | जिस  दाग  को  सब  से  छुपाती  चली , उस  दाग  कि  कहानी  कि  शाम  अब  तक  ना  ढली | हर  उम्मीद  पर  से  विश्वास  जो  उठ  गया , हर  रिश्ता  मुझसे  रूठ  गया | मेरी  मर्ज़ी  तक  ने  मुझे  माफ़  करने  से  इंकार  कर  दिया और  मेरे  ही  खिलाफ  जाने  का  दर्द  भरा  इकरार  कर  दिया | Zindagi meri katputli hai ya main zindagi ki? Aakhir wajah kya hai is chubte hue sannate ki? Chupati thi khudko har insaan se, bachati thi khud ko har toofaan se. Par zindagi ki doriya kuch iss tarah bandhi thi, ki main jis dori se bandhi woh dori toh tootni hi thi. Aisa jhonka aaya hawa ka, koi matlab na raha kisi ki dua ka. Jis daag ko sab se chupati chali, uss daag ki kahaani ki shaam ab tak na dhali. Har ummeed par se vishwaas jo uth gaya, har rishta mujhse rooth gaya. Meri marzi tak ne mujhe maaf karne se inkaar kar diya, aur mere hi khilaaf jaane ka dard bhara ikraar kar diya.