जवाब – Jawaab

खुद से कभी जवाब माँगा है उन सवालों का?
कारण क्या है उलझन भरे इन ख़यालों का?

खुद में ज़रा झाँक कर देखो, शायद जवाब मिल जाए,
जिन ज़ख्मो को छिपाया है, शायद वह भी सिल जाए|

IMG-20170925-WA0012

Translation (By Ridhi Gupta)
Have you tried asking yourself those questions?
what’s the reason behind
all these troubled thoughts you’ve put into motion.
Look inside yourself and the answers you just might find,
It could finally heal, all those wounds you try to hide.

 

Advertisements

चिंगारी – Chingaari

हुस्न पर सीमित कर दिया मुझे,
मुबारक हो इस साज़िश पर|
काबिलियत को भी नज़रअंदाज़ कर दिया
अब और चिंगारी मत लगाओ मेरी बढ़ती रंजिश पर|

 

PicsArt_09-12-08.05.57

 

Translation (by Ridhi Gupta)

You limited me to my body,
This conspiracy of yours I applauded.
Went on to neglect my ability,
My growing anguish needs no more sparks to be added.

ज़िन्दगी की बातें – Zindagi ki baatein

किताबें कई पढ़ी तो नहीं मैंने,
पर लोगों से कई मुलाकातें हुई है,
ख़ुशी का हर दिन,
और दुःख की कई रातें हुई हैं,
चुबता हुआ सन्नाटा , टकराती हुई आवाज़ें,
ज़िन्दगी की छोटी – बड़ी , हर पलों की बातें हुई हैं|

 

PicsArt_09-03-07.00.35

Translation (By Ridhi Gupta)

I haven’t read too many books,

But I have met a lot of folks.

Days of happiness,

and nights full of sadness, have passed,

Chaotic voices, and pinching silence,

Life’s, small and big, a lot of stories we’ve discussed.

भय – Bhay

ये जो भय है ना, भय,
कई सपनो को चूर कर देता है|
.
.
ये जो भय है ना, इसे ढाल बना लो,
तो इन्ही सपनो को मशहूर कर देता है|

 

PicsArt_08-19-07.19.33

 

Translation (by Ridhi Gupta)

That fear, you know That Fear?
It’s turned so many dreams to dust.
That fear, you know That Fear,
If into a shield it is turned,
Those same dreams that were dust,
Like brilliant stars they would then burn.

इंतज़ार – Intezaar

इंतज़ार करते हो तुम, शाम ढलने का?
कि सुबह फिर नया पैगाम लाएगी|
.
.
सूरज के डूबने का इंतज़ार तो हम भी करते हैं,
ताकि ये रात हमारे ज़ख्मो को सुलाने फिर लौट आएगी|

 

PicsArt_08-06-06.46.02

 

Translation (by Ridhi Gupta)

You wait patiently for the evenings to come,

Because every morning is a new start for you.

I too sit here patiently awaiting,

Every day for the sun to set,

The night to come and put,

All of my aching wounds to rest.

 

आफ़ियत – Aafiyat (comfort)

आफ़ियत की बस गुज़ारिश थी,

जज़्बातों की नुमाइश नहीं

आसुओं की बड़ी नवाज़िश थी,

कहीं अँधेरी रातों की साज़िश तो नहीं?

Translation (by Ridhi Gupta)

There was a small wish for comfort,

My feelings that had been now put on display,

My tears, they flowed so generously,

Are these relentless dark nights conspiring against me?

आज़मा – Aazma

आज तू उदास है, सोचता है,
क्या अब भी तू उसका ख़ास है?
माना के लोग खुदगर्ज़ हैं
उसका लिखा हर खत कोरा कागज़ है.
.
.
वक़्त बर्बाद न कर उस बेवफा की आस में,
घर से निकल खुद की तलाश में.
.
.
हंसी का नगमा गुनगुना के तो देख,
मुस्कुरा के तो देख, खुद से प्यार जाता के तोह देख,
अरे ज़िन्दगी को फिर से आज़मा के तो देख|

IMG_20170716_202604

Translation by Ridhi Gupta

Today you were feeling sad,

Wondering, if you’re still the one, that mattered?

Everyone is selfish, I agree

The letters they wrote, now blank sheets.

Stop wasting your time,

On the ones who left you waiting for them.

Leave and go in search

For your own self worth.

Laugh a little

Spread a smile

Love thy self

Give this life a chance to show you,

A time more worthwhile.

वादियां – waadiyan

चार दीवारी में ज़िंदा तो रह रहे थे हम,
चंद कमरों के मकानों को घर ज़रूर कह रहे थे हम
.
.
एक दिन ज़िन्दगी की तलाश में घर से निकल गए हम,
आख़िरकार उन वादियों की गोद में ज़िन्दगी जीना सीख गए हम |

IMG-20170701-WA0058

                                                                                                                                                                                                         Copyrights reserved

Location: Coorg

 

Translation (by Ridhi Gupta)
Within those four walls,

Living, I was.

Those rooms making our houses

A home, it was.
Then one day I left that home,

Looking for a life.

And at last,

In the lap of the valleys,

I learnt what being Alive truly needs.

Rooh – रूह

कुछ लोगों में बात ही कुछ ऐसी है, 

रूह को छु जायेंगे|


जिस्म का क्या है? मिटटी से बने हैं ,

मिटटी में मिल जायेंगे|

Translation by Ridhi Gupta

Some people just have a way,

Your very soul they touch.


The body is nothing but a myth,

Ashes to ashes dust to dust.

आवाज़ें – Aawaazein

चेहरों पर मुस्कुराहट लिए चले जा रहे हैं
नजाने कहीं शोर मच रहा था
कहीं गुस्से का तो कहीं सिसकियों का
तो कहीं धोके का खेल रच रहा था

खैर मुस्कान तो सिर्फ एक नकाब है
क्यूंकि ये तो वह आवाज़ें हैं जिनका साया मन के हर कोनो में जच रहा था|

PicsArt_05-20-08.18.09

Translation (by Ridhi Gupta)

With smiles plastered on our faces,
We keep walking through life’s phases,
Surrounded by sounds that portrayed,
The anger, the sadness,
And those of hearts being betrayed.
But we’ve always known those smiles as facades.
Because the voices we heard were those,
whose every intonation is like a hidden shadow,
in the corners of our mind they hide, they grow.