Agar Main Zinda Hota

ज़िंदा  रहने  की  कोशिश  या  ज़िन्दगी  जीने  की  साज़िश?
सौभाग्य  है  उनका  जिन्हें  मिली  है  यह  कश्मकश |
सोचा  तो  कभी  नहीं  अपने  ही  देश  में  कोई  अपना  नहीं
डर  में  जीते  हैं  हम, यह  सच  है  कोई  सपना  नहीं |
रोज़  खेलता  था  वह  मेरे  साथ, आज  न  जाने  क्यों  नहीं  आया
माँ  ने  कहा  कहीं  गए  हैं  वो, उनकी  बेरहम  मौत  की  खबर  को  उन्ही के कब्र  में  छुपाया |
अगर  मैं  ज़िंदा  होता  तो  पता  होता  माँ  ने  यह  सच  क्यों  छुपाया |
हम  घर  में  ही  रहते  थे  ज़्यादा तर
माँ  परेशान  रहती  थी  अक्सर |
एक  दिन  कहा  देश  छोड़कर  जाना  है
यहाँ सिर्फ  खोना, कुछ नहीं पाना है |
निकल  पड़े  थे  नयी  शुरुवात  के  लिए
सोचा  न  था  निकले  थे  ज़िन्दगी  के  विश्वासघात  के  लिए |
हमारी एक  कोशिश  थी  ज़िंदा  रहने  की
हिम्मत  तो  जूता  ली  हर  दर्द  सहने  की |
दर्द  सहने  की  ज़रुरत  ही  न  पड़ी
जब  सुई  ही  रुक  गयी  उस  घडी |
अगर  मैं  ज़िंदा  होता  तो  शायद  कहीं  खुश  होता
अगर  मैं  ज़िंदा  होता ,
ज़िंदा  रहने  या  ज़िन्दगी  जीने  के  कश्मकश  में  शायद  मैं  भी  होता , शायद  मैं  भी  होता |
This poetry is a tribute to Aylan Kurdi, his family and every Syrian refugee.
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s