आफ़ियत – Aafiyat (comfort)

आफ़ियत की बस गुज़ारिश थी,

जज़्बातों की नुमाइश नहीं

आसुओं की बड़ी नवाज़िश थी,

कहीं अँधेरी रातों की साज़िश तो नहीं?

Translation (by Ridhi Gupta)

There was a small wish for comfort,

My feelings that had been now put on display,

My tears, they flowed so generously,

Are these relentless dark nights conspiring against me?

आज़मा – Aazma

आज तू उदास है, सोचता है,
क्या अब भी तू उसका ख़ास है?
माना के लोग खुदगर्ज़ हैं
उसका लिखा हर खत कोरा कागज़ है.
.
.
वक़्त बर्बाद न कर उस बेवफा की आस में,
घर से निकल खुद की तलाश में.
.
.
हंसी का नगमा गुनगुना के तो देख,
मुस्कुरा के तो देख, खुद से प्यार जाता के तोह देख,
अरे ज़िन्दगी को फिर से आज़मा के तो देख|

IMG_20170716_202604

Translation by Ridhi Gupta

Today you were feeling sad,

Wondering, if you’re still the one, that mattered?

Everyone is selfish, I agree

The letters they wrote, now blank sheets.

Stop wasting your time,

On the ones who left you waiting for them.

Leave and go in search

For your own self worth.

Laugh a little

Spread a smile

Love thy self

Give this life a chance to show you,

A time more worthwhile.

वादियां – waadiyan

चार दीवारी में ज़िंदा तो रह रहे थे हम,
चंद कमरों के मकानों को घर ज़रूर कह रहे थे हम
.
.
एक दिन ज़िन्दगी की तलाश में घर से निकल गए हम,
आख़िरकार उन वादियों की गोद में ज़िन्दगी जीना सीख गए हम |

IMG-20170701-WA0058

                                                                                                                                                                                                         Copyrights reserved

Location: Coorg

 

Translation (by Ridhi Gupta)
Within those four walls,

Living, I was.

Those rooms making our houses

A home, it was.
Then one day I left that home,

Looking for a life.

And at last,

In the lap of the valleys,

I learnt what being Alive truly needs.

Rooh – रूह

कुछ लोगों में बात ही कुछ ऐसी है, 

रूह को छु जायेंगे|


जिस्म का क्या है? मिटटी से बने हैं ,

मिटटी में मिल जायेंगे|

Translation by Ridhi Gupta

Some people just have a way,

Your very soul they touch.


The body is nothing but a myth,

Ashes to ashes dust to dust.

आवाज़ें – Aawaazein

चेहरों पर मुस्कुराहट लिए चले जा रहे हैं
नजाने कहीं शोर मच रहा था
कहीं गुस्से का तो कहीं सिसकियों का
तो कहीं धोके का खेल रच रहा था

खैर मुस्कान तो सिर्फ एक नकाब है
क्यूंकि ये तो वह आवाज़ें हैं जिनका साया मन के हर कोनो में जच रहा था|

PicsArt_05-20-08.18.09

Translation (by Ridhi Gupta)

With smiles plastered on our faces,
We keep walking through life’s phases,
Surrounded by sounds that portrayed,
The anger, the sadness,
And those of hearts being betrayed.
But we’ve always known those smiles as facades.
Because the voices we heard were those,
whose every intonation is like a hidden shadow,
in the corners of our mind they hide, they grow.

झंकार – Jhankaar

किश्तों में ही तो जी रहे हैं
या ज़रा ज़रा सा मर रहे हैं?
इस दुनिया में सब ही फनकार बने फिर रहे हैं,
बस ख़ुशी की एक झंकार के लिए तरस रहे हैं|

PicsArt_04-28-08.11.21

 

Translation (By Ridhi Gupta)

Aren’t we all, in bits and pieces, trying to be alive?
But as life passes, little by little, we all slowly die?
Pretending to be artists, aristocrats of the highest order
All we crave for, is that happiness
The chime of our own laughter.

Khwahishein

ख्वाहिशें भी सीमाएं कहाँ समझती हैं ?
हंस कर सवाल करती है , जैसे हम उसे पाने के काबिल ही न हो
गुरूर है तुम में , हम में भी काम नहीं ,
सुकून तोह उन्ही ख्वाहिशों को पाने में है जो आसानी से हासिल न हो|

preview

Translation (By Ridhi Gupta)

When has a wish,
Ever known it’s bounds,
When has a dream,
Ever not been profound.
But then they turn back,
And laugh, at Me!
They think I’m not capable,
Of attaining them you see.
I accept their pride,
For they have seen men fail,
But they haven’t met me yet,
My Pride is not that frail.
Eternal Peace is something,
I will only ever gain,
When what they say is unattainable,
I have at my feet, Now Lain.

Bayaan

सोचा खामोशी का खेल खेलते हैं,
क्योंकि हड़बड़ी जो जुबां कर देती है
.
.
लेकिन इन शातिर नज़रों का क्या करें?
कमबख्त सब बयां कर देती है|

 ||Translation||
I thought I’d play your heart with my silence,
My words, I stutter and stumble with anyway,
But how to avert these convoluted eyes
They defy me and go forth to declare,
What I was trying so hard, not to say.
.
.
.
.
Translation by – Ridhi Gupta.IMG_20170401_194655_025

Agar Main Zinda Hota

ज़िंदा  रहने  की  कोशिश  या  ज़िन्दगी  जीने  की  साज़िश?
सौभाग्य  है  उनका  जिन्हें  मिली  है  यह  कश्मकश |
सोचा  तो  कभी  नहीं  अपने  ही  देश  में  कोई  अपना  नहीं
डर  में  जीते  हैं  हम, यह  सच  है  कोई  सपना  नहीं |
रोज़  खेलता  था  वह  मेरे  साथ, आज  न  जाने  क्यों  नहीं  आया
माँ  ने  कहा  कहीं  गए  हैं  वो, उनकी  बेरहम  मौत  की  खबर  को  उन्ही के कब्र  में  छुपाया |
अगर  मैं  ज़िंदा  होता  तो  पता  होता  माँ  ने  यह  सच  क्यों  छुपाया |
हम  घर  में  ही  रहते  थे  ज़्यादा तर
माँ  परेशान  रहती  थी  अक्सर |
एक  दिन  कहा  देश  छोड़कर  जाना  है
यहाँ सिर्फ  खोना, कुछ नहीं पाना है |
निकल  पड़े  थे  नयी  शुरुवात  के  लिए
सोचा  न  था  निकले  थे  ज़िन्दगी  के  विश्वासघात  के  लिए |
हमारी एक  कोशिश  थी  ज़िंदा  रहने  की
हिम्मत  तो  जूता  ली  हर  दर्द  सहने  की |
दर्द  सहने  की  ज़रुरत  ही  न  पड़ी
जब  सुई  ही  रुक  गयी  उस  घडी |
अगर  मैं  ज़िंदा  होता  तो  शायद  कहीं  खुश  होता
अगर  मैं  ज़िंदा  होता ,
ज़िंदा  रहने  या  ज़िन्दगी  जीने  के  कश्मकश  में  शायद  मैं  भी  होता , शायद  मैं  भी  होता |
This poetry is a tribute to Aylan Kurdi, his family and every Syrian refugee.

26/11/08 Never forget this day

I had written this when I was 15, when the Mumbai attacks happened. 26nov2008
khoon hua? kiska?
kyun karein hum kuch?
kya tha woh koi apna?
hum hi kyun iske khilaaf awaaz uthayein?
hum hi kyun apni jaan gawayein?
bhaarat maata hai nyari
par hamaari jaan hai zyaada pyaari
police kar rahi hai apna kaam
aur neta kar rahe hain aaraam hi aaraam
aatankiyon ka kaatilaana chehera
uss par hai maasumiyat ka pehera
ek taraf hain hazaaron laashein
toh doosri taraf hai netaaon ki aishein
khoon ki nadiyan behene lage
aur dukh mein baadal rone lage
khoon ki cheetein hum par nahi pade
kyun hum aatankwaad se lade?
par kisi na kisi ko iske khilaaf bolna hoga
jo nahi khula hai uss raaz ko kholna hoga
aawaaz nahi talwar uthao
aur iss atankwaad ko jad se mitao.